मंगलवार, 7 मार्च 2017

लाल हिंसा के खिलाफ देशभर में जनाक्रोश

केरल में राष्ट्रीय विचार से संबंद्ध लोगों की हत्या और कम्युनिस्ट अत्याचार के विरुद्ध देशभर में आम समाज ने बुलंद की आवाज
 केरल  में पिछले 50 वर्षों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेविका समिति सहित अन्य सभी राष्ट्रीय विचार से संबंद्ध संगठनों के सामान्य स्वयंसेवकों की हत्या की जा रही है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता और कार्यकर्ता नृशंसता से अमानवीय घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। दस माह पहले केरल में माकपा की सत्ता आने के बाद से लाल आतंक में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है। मई, 2016 से अब तक 20 से अधिक स्वयंसेवकों की हत्याएं माकपा के गुण्डों ने की हैं। केरल राज्य के कन्नूर जिले मंअ स्थितियां और भी भयावह हैं। राज्य के मुख्यमंत्री पी. विजयन सहित माकपा पोलित ब्यूरो के अधिकतम सदस्य कन्नूर जिले से ही आते हैं। लेकिन, हैरानी की बात है कि देश का तथाकथित बौद्धिक जगत और मीडिया का बहुसंख्यक वर्ग इस आतंक पर खामोश है। दिल्ली से उठते अभिव्यक्ति की आजादी और असहिष्णुता के नारे केरल क्यों नहीं पहुंचते? राष्ट्रभक्त लोगों के लहू से लाल हो रही देवभूमि क्यों किसी को दिखाई नहीं दे रही है? तथाकथित प्रबुद्ध वर्ग और मीडिया की चुप्पी के बीच केरल में भयंकर रूप धारण कर चुके लाल आतंक के खिलाफ अब देश खड़ा हो रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के आह्वान पर देशभर में नागरिक अधिकार, जनाधिकार और मानव अधिकार मंचों के तहत आम समाज एकजुट होकर लाल आतंक के खिलाफ जनाक्रोश व्यक्त कर रहा है। मार्च के पहले सप्ताह में एक, दो और तीन तारीख को देश के प्रमुख स्थानों पर समाज के संवेदनशील नागरिक बंधुओं ने 'संवेदना मार्च' निकाले और धरने आयोजित किए हैं।
 
          केरल प्रांत से आने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे. नंदकुमार ने मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में आयोजित धरने में मीडिया से आह्वान किया कि वह केरल आए और कम्युनिस्टों के वास्तविक चरित्र से देश-दुनिया को अवगत कराए। केरल में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। कम्युनिस्ट विचारकों और उनके समर्थकों ने देश में एक झूठ फैलाया है कि केरल में जो हिंसा है वह माकपा विरुद्ध आरएसएस है, लेकिन यह सच नहीं है। माकपा के कार्यकर्ता सिर्फ संघ और उसके आनुषांगिक संगठनों के स्वयंसेवकों की ही हत्याएं नहीं कर रहे, बल्कि वह उस प्रत्येक आवाज को कुचलना चाहते हैं, जो उनसे थोड़ी भी असहमति रखती है। केरल में जो हिंसा है, वह माकपा विरुद्ध गैर माकपा है। सीपीएम के गुण्डे सीपीआई के कार्यकर्ताओं को भी नहीं छोड़ते हैं। उन्होंने बताया कि केरल में माकपा ने 'पार्टी ग्राम' घोषित किए हैं। इन गाँवों में एक भी व्यक्ति मार्क्सवादी विचारधारा का विरोधी नहीं हो सकता। यदि किसी ने मार्क्सवादी विचारधारा से इतर जाने की कोशिश भी की, तो उसकी हत्या कर दी जाती है। सीपीएम के गुण्डे महिलाओं, बुजुर्गों और मासूम बच्चों पर भी दया नहीं दिखाते हैं। उन्होंने बताया कि कोझीकोड के पलक्कम में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता के समूचे परिवार को 28 दिसंबर को बंधक बनाकर जला दिया गया। मल्लपुरम जिले में एक स्वयंसेवक के बच्चे को उसकी माँ की गोद से छीनकर सड़क पर फेंक दिया। कन्नूर में एक नौजवान को उसी के माँ के सामने चाकुओं से गोद कर मार दिया गया। ऐसी अनेक क्रूरतम घटनाओं को पिछले दस माह में सीपीएम के गुण्डों ने अंजाम दिया है। 
          संघ के आह्वान पर आयोजित धरना-प्रदर्शनों से देशभर में कम्युनिस्टों का दोगला चरित्र उजागर हुआ है। आम समाज तक यह बात पहुंची है कि दिल्ली में सहिष्णुता-असहिष्णुता पर विमर्श करने वाले लोग केरल की हिंसा पर बोलने की हिम्मत क्यों नहीं करते हैं? जनाक्रोश सभाओं से यह भी संदेश गया है कि कैसे कम्युनिस्ट विचारधारा की सरकारें अपने वैचारिक विरोधियों की हत्याएं करती हैं। भारत का संविधान हमें अपनी रुचि के अनुसार विचारधारा का चयन करने एवं उसमें सक्रिय सहभाग करने का मूलभूत अधिकार प्रदान करता है, लेकिन कम्युनिस्ट गुण्डे केरल में इस अधिकार का न केवल हनन कर रहे हैं, बल्कि देशभक्त नागरिकों की हत्याएं कर रहे हैं। कम्युनिस्ट सरकार के संरक्षण में केरल में लगी लाल आग से सबसे अधिक दलित और पिछड़े वर्ग के लोग हताहत हुए हैं, लेकिन हैरानी की बात है कि देश के दलित विमर्श के ठेकेदार खामोश हैं। मानवाधिकार के झंडाबरदार भी कहीं गुम हो गए हैं। माकपा से असहमत विचारधारा को कुचला जा रहा है लेकिन असहिष्णुता का राग अलापने वाले समूह अजीब किस्म की चुप्पी साधकर बैठे हुए हैं। 
          केरल में वैचारिक असहमतियों के स्वर को जिस तरह कुचला जा रहा है, वह एक बार फिर प्रमाणित करता है कि कम्युनिस्टों का इतिहास रक्तरंजित रहा है। कम्युनिस्ट जहाँ-जहाँ शक्तिशाली हुए, इन्होंने लोगों का खून बहाया है। केरल में भी कत्लेआम कर रहे हैं। केरल में माकपा से असहमति रखने वाले निर्दोष लोगों की हत्या का दौर वर्ष 1969 से प्रारंभ हुआ है। वर्ष 1969 से लेकर अब तक माकपा के गुण्डे राष्ट्रीय विचारधारा से संबद्ध 300 से अधिक स्वयंसेवकों की हत्या कर चुके हैं। श्री नंदकुमार ने बताया कि 1948 और 1952 में केरल में माकपा के कार्यकर्ता संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरुजी पर भी जानलेवा हमला कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय विचारधारा के कार्यकर्ता शांति और सद्भाव में विश्वास करते हैं, इसीलिए इतना जुल्म सह रहे हैं। यदि यह लोग पलटवार करना प्रारंभ कर दें, तब देश में कम्युनिस्टों को छिपने के लिए भी स्थान नहीं मिलेगा। उन्होंने बताया कि लाल हिंसा को रोकने के लिए संघ, भाजपा और नागरिक मंडल केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन से निवेदन कर चुका है, लेकिन मुख्यमंत्री कठोर कदम उठाने की जगह अराजक तत्वों का संरक्षण करते ही प्रतीत हो रहे हैं। अब तक शांति व्यवस्था बनाने के लिए उनकी ओर से कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई है। संघ के प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को भी इस संबंध में ज्ञापन सौंपा है। देश के गृहमंत्रालय को भी केरल की वस्तुस्थितियों से अवगत कराया जा चुका है। 
----
मई 2016 में राज्य में माकपा की सरकार आने के बाद 8 माह में, माकपा के विरोधी संगठनों के कुल 18 कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है। इनमें आरएसएस के 12 स्वयंसेवक हैं। मुख्यमंत्री के संरक्षण में माकपा के गुंडों द्वारा अपने राजनीतिक विरोधियों के विरोध में जारी हिंसा के कारण भय का वातावरण निर्माण हुआ है। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में कम्युनिस्ट जनतांत्रिक मोर्चा जब भी सत्ता में आया है, तब, माकपा ने गृह मंत्रालय अपने पास ही रखा और पुलिस बल को हस्तक बनाकर पार्टी के कार्यकर्ताओं को अभय देते हुए, संघ की शाखाओं एवं कार्यकर्ताओं के विरुद्ध आक्रमण की खुली छूट दी है। उनकी कार्यशैली केवल संघ के कार्यकर्ताओं का निर्मूलन करने की नहीं, उन्हें आर्थिक रूप से पंगु बनाने और आतंकित करने की है। 
- जे. नंदकुमार, अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख, आरएसएस
----
वर्ष 1970 में पश्चिम बंगाल में कम्युनिस्ट कार्यकर्ताओं ने वर्धमान जिले में दो नौजवानों की हत्या कर उनके रक्त में चावल पकाकर उनकी माँ को खिलाए, जिससे वह माँ पागल होकर बिलखते-बिलखते मर गई। इससे अमानुष हरकत क्या हो सकती है? इस तरह की घटनाओं से कम्युनिस्टों का चेहरा उजागर होता है। यह राक्षसी शक्तियां हैं। इनका मुकाबला युक्ति और बुद्धि से करना होगा। 
- रामेश्वर मिश्र 'पंकज’, वरिष्ठ साहित्यकार
---- 
केरल में राज्य सरकार के संरक्षण में माकपा द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकताओं को मौत के घाट उतारा जा रहा है। इस लाल आतंक को तत्काल रोका जाना चाहिए। 
- देवव्रत पाहन, प्रांत संघचालक, रांची

1 टिप्पणी:

  1. हमेशा की तरह एक और बेहतरीन लेख ..... ऐसे ही लिखते रहिये और मार्गदर्शन करते रहिये ..... शेयर करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। :) :)

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails