शनिवार, 23 अगस्त 2014

उठ जाग


उठ जाग मातृ भू की सुप्त नव संतान रे।
उठ जाग मातृ भू की वीर संतान रे।। 

क्यों आत्म विस्मृत हो रहा
अपना अस्तित्व पहचान रे।
अपने सुकर्म, स्वधर्म से
कर राष्ट्र का पुनरुत्थान रे।
उठ जाग मातृ भू की राणा-सी वीर संतान रे।। 

कर मातृ भू की सेवा
तन-मन-धन-प्राण से।
ले अंगड़ाई आलस्य निंद्रा त्याग रे
जागेगा तेरा भाग्य रे।
उठ जाग मातृ भू की दिव्य संतान रे। 

उठ खड़ा हो ले शस्त्र हाथ में
शत्रु है बैठा घात में।
कर मातृ भू की रक्षा
मां भारती तेरे साथ में। 
उठ जाग मातृ भू की शिवा-सी वीर संतान रे। 

3 टिप्‍पणियां:

  1. भाई लोकेन्द्र ओज और देशप्रेम से परिपूर्ण रचना आपके भावों को पूर्णतः व्यक्त कर रही है । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक
    सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails