गुरुवार, 17 जुलाई 2014

संघ बांटता नहीं, जोड़ता है

वरिष्ठ समालोचक डॉ. विजय बहादुर सिंह 
 दे श के जाने-माने समालोचक और बुद्धिजीवी विजय बहादुर सिंह का समाज में बड़ा आदर है। हजारों लोगों की तरह मैं स्वयं भी उनका मुरीद हूं। उनकी ओजस्वी वाणी और सशक्त लेखनी सदैव समाजहित में कुछ नया रचने-करने को उद्देलित करती है। भोपाल में आयोजित मीडिया चौपाल के समापन समारोह में उन्हें पहली बार सुना था। जब वे बोल रहे थे तो सभागार में सन्नाटा खिंच गया था, मानो सभागार में उनके अलावा कोई और नहीं हो। असल में करीब दो सौ लोगों की मौजूदगी से सभागार खचाखच भरा था। लेकिन उनके शानदार और भावपूर्ण भाषण को सब मंत्रमुग्ध होकर सुन रहे थे। अपनी बात कहने और लोगों को प्रभावित करने का यह अनोखा जादू आज के दौर में कम ही देखने को मिलता है। लेकिन विजय बहादुर जी इसमें सिद्धहस्त हैं। उनके भाषण के बाद, उनके विचारों से प्रभावित होकर एक मीडियाकर्मी अपनी कुर्सी से उठकर मंच की ओर आया और विजय बहादुर सिंह के चरणों में नमन करने लगा। यह था उनके ओजपूर्ण और संवेदनाओं से भरे भाषण का असर। अपनी बात को आगे बढ़ाने से पहले यहां एक-दो बातें बता देना चाहूंगा- मीडिया चौपाल का आयोजन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े अनिल सौमित्र  की परिकल्पना है और जिस मीडियाकर्मी ने विद्वानों से सुशोभित सभागार में विजय बहादुर जी के चरणस्पर्श किए वह भी संघ का स्वयंसेवक था। 
          इस वाकये के बाद उद्भट विद्वान विजय बहादुर सिंह से कई बार भेंट हुई और बीच-बीच में उनको सुना-पढ़ा भी। मीडिया चौपाल में उनके भाषण को सुनकर जितनी उमंग का संचार हुआ था, मीडिया विमर्श में उनकी विशेष टिप्पणी पढ़कर उतनी ही निराशा हुई। वरिष्ठ पत्रकार, संपादक और माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति अच्युतानंद मिश्र पर केंद्रित मीडिया विमर्श के मार्च-२०१४ के अंक में पृष्ठ १०३ पर 'कठिन संभावनाओं के बीच शिवराज' शीर्षक से उन्होंने यह विशेष टिप्पणी लिखी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बहाने उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की है। अपनी सशक्त लेखनी से संघ की कमजोर आलोचना की है। संघ के संदर्भ में उनकी समालोचना किसी पूर्वाग्रह की चपेट में दिखी। अपनी विशेष टिप्पणी में उन्होंने संघ को कट्टर, विध्वंसक और तानाशाही परंपरा के पैरोकार के रूप में निरूपित करने की कोशिश की है। आलेख में श्री विजय बहादुर एक जगह लिखते हैं - 'अगर भाजपा के ताकतवर नायक नहीं चेते और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ रोज-रोज अधिक पावरफुल होता गया तो एक वह दुर्भाग्यपूर्ण दिन आएगा ही आएगा जब यह देश दोबारा बंटेगा और इस बार इसका अपराध और कलंक भाजपा के माथे का सबसे बड़ा ऐतिहासिक कलंक साबित होगा।' संघ के बारे में लगातार मीडिया में आने वाली नकारात्मक खबरों और नेताओं-बुद्धिजीवियों द्वारा भी लगातार संघ की निंदा किए जाने पर एक दफा वरिष्ठ प्रचारक से मैंने इसका कारण जानना चाहा। तब उन्होंने एक लाइन में इसका जवाब दिया था- 'किसी को संघ समझना है तो उसे संघ के नजदीक आना होगा। संघ को लेकर नकारात्मक टिप्पणी करने वाले लोग संघ के नजदीक आना ही नहीं चाहते तो वे कैसे संघ को समझेंगे।' उनका जवाब मुझे सच और वास्तविकता के काफी करीब लगा। दरअसल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के करीब आकर मेरी स्वयं की भी कई धारणाएं टूटी हैं। जहां तक मेरी जानकारी है विजय बहादुर जी संघ के लोगों के नजदीक रहे हैं, संघ के अनुषांगिक संगठनों के कार्यक्रमों में भी शामिल होते रहे हैं लेकिन प्रत्यक्षतौर पर संघ में कभी नहीं गए हैं। शायद यही कारण है कि संघ को लेकर उनके मन-मस्तिष्क में तमाम पूर्वाग्रह यथावत हैं। बहरहाल, संघ ही एकमात्र ऐसा बड़ा संगठन है जो देश के विभाजन के पक्ष में कतई नहीं है। वरना कम्युनिस्ट और दूसरे संगठन-लोग तो कब से जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करने की फिराक में है। जम्मू-कश्मीर इस देश का अभिन्न हिस्सा है और किसी भी कीमत पर इसे अलग नहीं होने देंगे, यह दंभ तो संघ और उसके अनुषांगिक संगठन ही भरते हैं। बाकी कई तो जम्मू-कश्मीर मामले पर भारत विरोधी बयान ही देते रहते हैं। संघ ही वह संगठन है जिसके कार्यकर्ताओं ने जम्मू-कश्मीर को देश का अभिन्न हिस्सा साबित करने के लिए बलिदान दिया है। संघ ही है जो राष्ट्रवादी विचारधारा का संचार लोगों के हृदय में कर रहा है। संघ ही है जो देश के लिए मरने से अधिक जीने की बात करता है। वह भी संघ ही है जो लगातार समाज और राजनीति को चेताता है कि स्पष्ट राजनीतिक दृष्टिकोण न होने से भारत वर्षों से खण्ड-खण्ड हो रहा है। अब जागने का वक्त है, देश की चिंता करने का वक्त है, अब देश के और टुकड़े न हों इसके लिए संघ सब समाज से आह्वान करता है। 
केरल में भूस्खलन के दौरान राहतकार्य करते स्वयंसेवक
        संघ विध्वंसक नहीं सृजक है। समाज में ऊंच-नीच की खाई को पाटने का काम संघ कर रहा है। सामाजिक समरसता के लिए संघ और उसके अनुषांगिक संगठनों के द्वारा किए जा रहे प्रयासों से दलित मसीहा बाबा भीमराव अम्बेडकर और अहिंसा के महान पुजारी महात्मा गांधी भी प्रभावित हुए थे। छोटे कद के ताकतवर प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को संघ के अनुशासन पर इतना भरोसा था कि सन् १९६५ में पाकिस्तान से युद्ध के समय दिल्ली की यातायात व्यवस्था की महती जिम्मेदारी ही स्वयंसेवकों को सौंप दी। यही नहीं दिल्ली के अस्पतालों में गंभीर घायल अवस्था में भर्ती सैनिकों को जब रक्त की जरूरत पड़ी तो सबसे पहले संघ के स्वयंसेवकों को बुलाया गया। देश में कहीं भी आपात स्थिति आती है तो राहत और बचाव कार्य के लिए वहां सबसे पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता ही खाकी नेकर में नजर आते हैं। हाल ही में उत्तराखण्ड त्रासदी में भी संघ के स्वयंसेवकों ने पीडि़तों की तन-मन-धन से मदद की। भारत की इलेक्ट्रोनिक मीडिया के इतिहास में पहली बार संघ के काम को सकारात्मक नजरिए से प्रस्तुत किया गया। वंचित और समय के साथ पिछड़ गए समाज को मुख्यधारा में लाने के लिए संघ देश में हजारों की संख्या में नियमित रूप से सेवा और स्वावलंबन के प्रकल्प चला रहा है, बिना किसी भेदभाव के। 
         श्री विजय बहादुर अपनी टिप्पणी में एक-दो जगह यह बताने की कोशिश करते हैं कि संघ मुस्लिम विरोधी है। आज की स्थिति में यह किसी भी तरह सच नहीं दिखता। संघ की शाखाएं तो सुबह-शाम खुलेआम मैदान और पार्कों में लगती हैं। शाखाओं को देखने, उनमें शामिल होने से कोई किसी को नहीं रोकता। नजदीक से देखा और अनुभव किया हुआ ग्वालियर का एक प्रकरण मेरे ध्यान में आता है। वहां एक शाखा में मुस्लिम बच्चे आते थे, इस बात पर बच्चों के पिता और दादा में बहस होती थी। उस युवक ने अपने पिता के विचारों से इतर जाकर, बच्चों को संघ की गणवेश लाकर दी और स्वयं उन्हें शाखा में छोडऩे गया। हालांकि बाद में मुस्लिम समाज के दबाव के आगे उसे झुकना पड़ा। चम्बल के एक कस्बे भिण्ड का एक मुस्लिम युवक मेरे साथ पत्रकारिता कर रहा था, उसने मुझे बताया कि वह आरएसएस का बेहद सम्मान करता है और वह तो आरएसएस का प्रचारक बनाना चाहता था लेकिन घरवालों ने अनुमति नहीं थी। ये कुछ घटनाएं साबित करती हैं कि संघ कभी भी मुस्लिम विरोधी नहीं रहा है, बस उसे नजदीक से देखने की जरूरत है। संघ तो समाजकंटकों का विरोधी रहा है। संघ ही था जिसने भारत के सर्वोच्च पद (राष्ट्रपति) के लिए मिसाइल मैन के नाम से ख्यात देश के जाने-माने वैज्ञानिक एपीजे कलाम का आगे बढ़ाने पर भाजपा की पीठ थपथपाई। दरअसल, संघ ने कभी-भी मुसलमानों के लिए अपने दरवाजे बंद नहीं किए हैं। यह अलग बात है कि तमाम बुद्धिजीवियों और सांप्रदायिकता की राजनीति करने वाले राजनेताओं के बहकावे में आकर मुस्लिम बंधु खुद ही संघ की देहरी नहीं चढ़े। सामाजिक समरसता की बात करने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को ही आखिर मुस्लिमों के लिए अलग मंच बनाना पड़ा। सांप्रदायिकता के अंधे गलियारे में भटक रहे मुस्लिमों को मुख्यधारा में लाने के लिए संघ राष्ट्रवादी मुस्लिम मंच के तहत एक बड़ा आंदोलन चला रहा है। संघ के चेहरे पर कट्टरवादी छवि का मुखौटा चेंप रहे बुद्धिजीवी उसकी उदारता की गहराई को जरा समझने की कोशिश करें तो शायद उनका स्वयं का पूर्वाग्रह तो दूर होगा ही, समाज भी भ्रमित होने से बच सकेगा। 
          सरल और सहज स्वभाव के धनी विजय बहादुर सिंह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा (जिसे संघ के लोग व्यक्ति निर्माण का कारखाना कहते हैं) से निकलकर आए कलकत्ता विश्वविद्यालय में आचार्य रहे पंडित विष्णुकांत शास्त्री, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को तो पसंद करते हैं लेकिन संघ को नहीं। वे चन्द्रगुप्त मौर्य को तो चाहते हैं लेकिन उसके निर्माता और राष्ट्रहित में स्पष्ट सोच रखने वाले चाणक्य की निंदा करते हैं।    यह तो वही बात हुई कि कठोरता के लिए नारियल की निंदा करना और उसके अन्दर के स्वादिष्ट गूदे के प्रशंसक होना। छोटे मुंह बड़ी बात होगी, मुझ जैसे अदने से लेखक के लिए साहित्य और समाज के विराट व्यक्तित्व की बात को काटना। लेकिन फिर मेरा आग्रह है वाणी और लेखनी के जादूगर से कि वे बेफिक्र रहें, जब तक संघ है तब तक न देश बंटेगा, न मिटेगा और न ही बिकेगा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का उद्देश्य देश को जोडऩा है, उसे खण्ड-खण्ड होने से बचाना है। इसी पवित्र उद्देश्य के लिए संघ प्रतिदिन तमाम व्यवधानों के बीच कर्मपथ पर आगे बढ़ रहा है। आज जब पश्चिम से आए भौतिकवाद के अंधड़ में हम आत्म विस्मृत हो रहे हैं तब संघ अपनी शाखाओं में भारत की संस्कृति, मूल्यों और दायित्वों का बोध करा रहा है। इसलिए हमें उसकी घृणा की हद तक निंदा नहीं बल्कि समालोचना करनी चाहिए ताकि वह अपने पथ से डिगे नहीं, भटके नहीं और देशहित में सही राह पर चलता रहे।  
(मीडिया विमर्श में प्रकाशित आलेख)

2 टिप्‍पणियां:

  1. जो जानते नहीं या जानना नहीं चाहते उनके बारे में क्या कहा जाए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिगंबर नासवा जी ने सटीक टिप्पणी की है।

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails