रविवार, 26 फ़रवरी 2012

बौखलाहट या दंभ?


उत्तरप्रदेश की जनता का अपमान राष्ट्रपति शासन की धमकी
 उ त्तरप्रदेश में पांच चरणों के मतदान के बाद आ रहे रुझान देखकर कांग्रेस की सिट्टी-पिट्टी गुम है। कांग्रेस की यथा स्थिति यानी चौथे पायदान पर बने रहने की प्रबल संभावनाएं जताई जाने लगी हैं। इससे कांग्रेस के तमाम नेतागण या तो बौखला गए हैं या फिर उनके बयानों में दंभ झलक रहा है। सबसे पहले कांग्रेस के विवादास्पद नेता दिग्विजय सिंह ने उत्तरप्रदेश में सत्ता में न आने पर राष्ट्रपति शासन की बात कही। बात क्या कही जनता को राष्ट्रपति शासन का डर दिखाया। दिग्विजय की बात का कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की ओर से विरोध नहीं जताया गया। अर्थात् ऐसी कांग्रेस पार्टी और आलाकमान सोनिया गांधी की मंशा है यह समझा जाना चाहिए। इसे और अधिक पुष्ट किया कांग्रेस सांसद और केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जायसवाल ने। बुंदेलखंड में मट्टी पलीद होते देख कांग्रेस की बौखलाहट या दंभ सामने आ गया। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जायसवाल ने कहा था कि यदि उत्तरप्रदेश में कांग्रेस की सरकार नहीं बनी तो किसी और की सरकार नहीं बनेगी। ऐसे में राष्ट्रपति शासन के अलावा कोई विकल्प नहीं। इस पर तमाम विपक्षी पार्टियों ने इसे लोकतंत्र का उपहास, कांग्रेस का दिवालियापन, पागलपन, तानाशाही और हताशा की स्थिति में पहुंचना बताया। 
सबका अपना-अपना नजरिया है। लेकिन, मैं इसे सीधे तौर पर उत्तरप्रदेश की जनता का अपमान समझता हूं। यह साफ तौर पर वहां की जनता को धमकाने का मामला है। भला यह क्या बात हुई, हमको जिताओ वरना राष्ट्रपति शासन झेलना। लोकतंत्र में जनता को अपने मन के प्रतिनिधि चुनने का हक है। उन पर किसी तरह का मानसिक दबाव बनाना गलत है। हालांकि वोट पाने का कांग्रेस का यह तरीका (धमकी) भी कारगर नहीं होगा। दंभ किसी का भी हो भारत की जनता झेलती नहीं है। यह इतिहास हमें बताता है। कांग्रेस खुद का ही इतिहास पढ़ लेती तो राष्ट्रपति शासन लागू करने की मंशा ही नहीं बनाती। सोनिया गांधी की सास और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी वर्ष 1975 में इसी दंभ का शिकार हो गई थीं। उन्होंने अपनी सत्ता को बचाए रखने के लिए 1975 देश पर 21 महीने का आपातकाल थोप दिया। इस दौरान पुलिस की मदद से इंदिरा गांधी ने अपने विरोधियों को प्रताडि़त किया। इन 21 महीनों को भारतीय राजनीति का काला इतिहास माना जाता है। दरअसल, इंदिरा गांधी के चुनावी प्रतिद्वंद्वी राजनारायण की याचिका पर इलाहबाद हाईकोर्ट ने भ्रष्टाचार में लिप्त होने पर इंदिरा गांधी का चुनाव रद्द कर दिया था। ऐसे में उनके प्रधानमंत्री बने रहने पर संकट आ गया था। विपक्षी पार्टियां उनसे इस्तीफे की मांग जोर-शोर से करने लगी थीं। सत्ता से चिपके रहने का नशा और अंहकार ने इंदिरा को 1975 में आपातकाल का फैसला लेने पर मजबूर कर दिया था। आपातकाल के दौरान आमजन के पीड़ा-वेदना से भरे अनुभव इतिहास के पन्नों पर दर्ज किए गए हैं। दो साल बाद आम चुनाव में जनता ने दंभ को धूल चटा दी। 1977 में कांग्रेस का सूपड़ा-साफ हो गया। पहली बार देश में गैर-कांग्रेसी सरकार बनी। आज तक इंदिरा गांधी को उस दंभी निर्णय के लिए निंदित किया जाता है।
भारतीय संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत विधानसभा में यदि कोई दल स्पष्ट बहुमत में नहीं होता अर्थात् यदि कोई दल सरकार बनाने की स्थिति में नहीं होता तो ऐसी स्थिति में केन्द्रीय सरकार की सलाह पर राज्यपाल राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर देता है। छह माह में भी यदि कोई दल सरकार बनाने के लिए बहुमत सिद्ध नहीं कर सका तो राज्य में फिर से चुनाव कराए जाते हैं। लेकिन, यह सब बाद की स्थिति है। कांग्रेस के नेता तो अभी से ही राष्ट्रपति शासन की धमकी दे रहे हैं। यह कहां तक वाजिब है। बहरहाल, कांग्रेस ने अपना रवैया न बदला तो जनता उसे उसकी औकात बताने में पांच साल भी नहीं लगाएगी, उसके हाथ वर्तमान में ही मौका है। लोकसभा के आमचुनाव भी अधिक दूर नहीं। वैसे भी यूपीए-2 के कार्यकाल में परत-दर-परत घोटालों के खुलासे से कांग्रेस के बारह बजे हुए हैं। 
लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में कांग्रेस की सत्ता उखाड़ फेंकने के लिए उमड़ा जनसैलाब। 

13 टिप्‍पणियां:

  1. बौखलाहट भी और दंभ भी, दोनों झलकते हैं। जनता की क्या बात कहेंगे, जनता को ये सब ही पसंद है। सतहत्तर के बाद अस्सी भी इसी जनता की बदौलत ही आया था।

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोकेन्द्र जी,..राष्टपति शाशन की नौबत आयेगी ही नही,ये सब राजनीतिक हथकंडे है,..
    चुनाव के बाद ये पार्टियां जो आज आपस में लड़ने का नाटक कर रही है,कल कोंग्रेस+समाजवादी या बीजेपी+बीयसपी आपस में मिलकर सरकार बना लेगी.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीयत की खराबी तो स्पष्ट दिख रही है। यदि सत्ताधीशों के मन में जनता के लिये आदर होता तो क्या देश की इतनी बड़ी जनसंख्या कीड़ों-मकोड़ों की तरह कचरा बीनते, स्लम्स में रहते हुए दिन काटती? शिक्षा, आवास और सुरक्षा तो दूर की बात है। एक ज़माने में लोग डाकू-ठगों से लुटते थे, अब तो पुलिस-प्रशासन से लुटते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने अपनी प्रस्तुति को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है । सदा सृजनरत रहें ।मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आजादी का मतलब सिर्फ इतना हुआ था कि गोरी चमड़ी वाले कमीने इस देश से पलायन कर गए थे और उनकी जगह इन ......!

    उत्तर देंहटाएं
  6. चोर चोर मौसेरे भाई .... कब कौन पार्टी जोड़ तोड़ करे पता ही नहीं चलता ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैं तो ऐसे मौकों पर नानी पालखीवाला की पुस्तक का हवाला देता हूँ जहां वे कहते हैं कि इस देश की जनता ने खुद को एक वृहत संविधान दिया, पर उसे संभालने की योग्यता नहीं.. इसलिए समाज वही पाता है जो वो डिज़र्व करता है.. दोष हमारा ही है.. उन्हें बेकार है कोसना!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. SARTHAK AALEKH .BADHAI .
    I HAVE GIVEN YOUR BLOG'S LINK ON -YE BLOG ACHCHHA LAGA .IT'S URL IS-[http://yeblogachchhalaga.blogspot.com]PLEASE VISIT .

    उत्तर देंहटाएं
  9. aapne bahut sahi likha hai congress ki bokhlahat samajh me aati hai

    उत्तर देंहटाएं
  10. यू. पी. की ही एक कहावत है "जइसी हगनी देवी तइसे जिन्न पुजइया"

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails