मंगलवार, 3 जनवरी 2012

उनका हिन्दू होना ही दुर्भाग्य है !

 को ई भी इंसान अपनी जमीन यूं ही नहीं छोड़ता। उसके साथ उसके पुरखों की याद जुड़ी होती है। लेकिन, पाकिस्तान में हिन्दू एक क्षण भी नहीं रहना चाहते। वे अपनी जमीन, जायदाद सबकुछ छोड़कर बस वहां से भाग जाना चाहते हैं। हाय री दुनिया! उनके लिए यह भी तो मुमकिन नहीं। हिन्दुओं के देश में ही उन्हें रहने को ठौर नहीं मिल रहा तो कहीं और का खयाल कैसे किया जाए। पाकिस्तान से आए १५१ हिन्दुओं पर बैरी सरकार की नजर है। इनका वीजा समाप्त हो गया है। इसलिए सरकार उन्हें यहां से घसीटकर फिर से पाकिस्तानी नर्क में धकेल देना चाहती है। जहां न उनकी इज्जत है न उनके काम की। उनके धर्म को तो वहां हिकारत की नजरों से देखा जाता है। उनकी नाबालिक और जवान बेटियों-बीवीयों पर पाकिस्तानी युवकों-बूढ़ों की नजर ठीक वैसे ही रहती है जैसे कुत्तों की नजर हड्डी पर। लड़कियों का अपहरण, जबरन धर्मांतरण, बेरोजगारी, मताधिकार पर प्रतिबंध, आए दिन प्रताडऩा.... पाकिस्तान में हिन्दुओं की महज २ फीसदी रह गई आबादी को आज यही सब हासिल हैं।
      इस सबसे आजिज आ चुके पाकिस्तानी हिन्दू अब पाकिस्तान में और नहीं रहना चाहते। भारत सरकार भी उनकी मदद नहीं करती। भारत सरकार की ओर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान में हिन्दुओं की स्थिति सुधारने के लिए बात नहीं की जाती। आखिर क्यों...? क्या इसलिए कि वे हिन्दू हैं। शायद हां। ऑस्ट्रेलिया में आतंकवादी होने के शक में एक मुस्लिम डॉक्टर के पकड़े जाने पर भारत के प्रधानमंत्री को नींद नहीं आ सकी थी। जबकि पाकिस्तान में आए दिन हिन्दुओं के साथ दुराचार हो रहा है, वे और उनकी सरकार तान के चादर सो रही है। पाकिस्तान की स्थानीय एजेंसियों की ओर से किए गए शोध बताते हैं कि पाकिस्तान में हर माह औसत २५ लड़कियों का अपहरण होता है और जबरन उनका धर्मांतरण किया जाता है। नतीजा यह है कि विभाजन के समय पाकिस्तान में हिन्दुओं की आबादी करीब 15 फीसदी थी, जो वर्तमान में महज 2 फीसदी से भी कम रह गई है। हिन्दुओं के पूजा स्थल तोड़ दिए गए या फिर उन पर मुसलमानों ने कब्जा कर लिया। फिलवक्त पाकिस्तान में 428 मंदिरों में से सिर्फ 26 में ही पूजा-पाठ होता है। इतना ही नहीं उन्हें अंतिम संस्कार करने तक की आजादी नहीं है। वहां हिन्दू अपने धर्म के मुताबिक परिजन के शव को जला नहीं सकते। स्थानीय मुस्लिम आवाम दबाव बनाकर शव को दफन करवा देती है।
      ऐसी स्थितियों में भला कोई कैसे रह सकता है? जिन 151 हिन्दुओं को सरकार वापस पाकिस्तान भेजना चाह रही है वे ऐसी ही अपमानजनक स्थितियों से तंग आकर भारत आए हैं। उन्हें उम्मीद थी कि यह उनके अपने हिन्दू भाइयों का देश है। यहां उन्हें सम्मानजनक जीवन जीने के लिए थोड़ी सी जगह मिल सकेगी। लेकिन, दुर्भाग्य कि वे वोट बैंक नहीं है, अल्पसंख्यक नहीं, भारत को अपना मानते हैं भारत विरोधी नहीं है, ऐसे में सरकार उन्हें सिरमाथे कैसे बैठा सकती है। हां, अगर ये हिन्दू नहीं होते तो बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों की तरह इनके राशनकार्ड बनवा दिए जाते, रहने और रोजगार की व्यवस्था कर दी जाती। पिछले दिनों यूपीए सरकार के केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री एम रामचंद्र ने संसद को लिखित बयान में कहा था कि इन पाकिस्तानी हिन्दुओं को वापस पाकिस्तान जाना होगा। इनका वीजा समाप्त हो चुका है। जब यह बात मीडिया के जरिए समाज में पहुंची तो कुछ संगठनों की संवेदनाएं जागी। उन्होंने जाकर उनके सुख-दु:ख को जानने की कोशिश की। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी व कार्यकर्ता, विश्व हिन्दू परिषद, भारतीय जनता पार्टी और अन्य हिन्दू संगठनों के लोग वहां पहुंचे। संत श्री श्री रविशंकर, स्वामी स्वरूपानंद, स्वामी आनंदस्वरूप सहित अन्य साधु-संत की उनको दिलासा देने पहुंचे। इन पाकिस्तानी हिन्दुओं को भारत में शरण दी जानी चाहिए इस बात को लेकर अखिल भारत हिन्दू महासभा दिल्ली हाईकोर्ट में पहुंची। हिन्दू महासभा की याचिका पर बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट में कार्यकारी चीफ जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ की बेंच ने विदेश और गृह मंत्रालय से इस मसले पर 29 फरवरी तक जवाब मांगा है। केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री एम. रामचन्द्र के बयान से घबराए हुए ये हिन्दू राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मानवाधिकार आयोग तक में गुहार लगा चुके हैं। मुसीबत के मारे हिन्दू करें भी तो क्या? यहां उनके अपने सुनवाई नहीं कर रहे बल्कि उन्हें जबरन पाकिस्तान भेजना चाह रहे हैं और वहां मुसलमान उन्हें जीने नहीं देंगे।
      आश्चर्य इस बात पर अधिक है कि पाकिस्तान से आए महज 151 हिन्दुओं को वापस पाकिस्तान भेजने के लिए केन्द्र सरकार कटिबद्ध दिख रही है जबकि सालों से पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से बड़ी संख्या में अवैध रूप से भारत आए मुसलमानों को उनके देश भेजने को कभी उत्सुक नहीं रही। आजादी के बाद के 60 सालों में कांग्रेस व अन्य तथाकथित सेक्यूलर पार्टियों ने बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए घुसपैठियों को बसाने का ही काम किया है न की भगाने का। पश्चिम बंगाल, असम सहित पूर्वांचल के राज्यों में अवैध बांग्लादेशियों के चलते स्थितियां बिगड़ गईं हैं। केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री एम रामचंद्र राज्यसभा के एक प्रश्न के उत्तर में बताते हैं कि देश में करीब 70 हजार विदेशी अवैध तरीके से रह रहे हैं। इनमें 28 हजार से अधिक बांग्लदेशी हैं। इसके अलावा 13747 अफगानिस्तानी, 8319 पाकिस्तानी, 2461 अमरीकी, 1817 ब्रिटिश और 662 चीनी अवैध तरीके से भारत में रह रहे हैं। उक्त सभी आंकड़े सरकारी हैं। वास्तविकता इससे अलग है। देश में बांग्लादेश से और बांग्लादेश के रास्ते पाकिस्तान, अफगानिस्तान के लोग भारी संख्या में आए दिन घुसपैठ करते हैं। सरकार 151 हिन्दुओं को भगाने के लिए तो आतुर दिख रही है लेकिन अन्य के बारे में कोई कार्रवाई करने के मूड में नहीं दिखती। पिछले दिनों एक शोध में बताया गया कि बांग्लादेश, असम और पूर्वांचल के राज्यों में इन अवैध विदेशियों को वोट की खातिर राशनकार्ड, वोटर आईडी बनवा दिए गए। वैध तरीके से बने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर कई बांग्लादेशियों ने तो नगरीय निकाय के चुनाव भी लड़े और जीत भी हासिल की। कहा जा रहा है कि पाकिस्तान से आए लोगों का धर्म हिन्दू है इसलिए इनको सरकार से मदद की आशा नहीं रखनी चाहिए।
      पाकिस्तान में हिन्दुओं की दुर्दशा के गवाह हैं दिल्ली के मजनूं टीला में डेरा डाले 151 पाकिस्तानी हिन्दू : पाकिस्तान में हिन्दुओं की क्या स्थिति है, यह किसी से छिपी नहीं है। भारत सरकार भी इस बात से भली-भांति परिचित है। भारत में पर्याप्त आजादी के बाद भी अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए छाती पीटने वाले बुद्धिजीवी, सेक्यूलर और एक्टिविस्ट भी जानते हैं कि कैसे पाकिस्तान में 62 सालों में हिन्दू 15 फीसदी से महज 2 फीसदी रह गए। लेकिन, सवाल उठता है सब जानते हैं तो बोलते क्यों नहीं? भारत के अल्पसंख्यकों के हितों की चिंता तो अंतरराष्ट्रीय पटल तक करते हैं लेकिन पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की रक्षा पर घर में ही चुप्पी साध लेते हैं। मीडिया कई दफा पाकिस्तान में हिन्दुओं की क्या दुर्दशा हो रही है इसकी जानकारी देती रहती है। कुछ राष्ट्रवादी सोच के पत्र-पत्रिका भी समय-समय पर पाकिस्तान के हिन्दुओं के हितों की चिंता करते दिखती हैं। इनके दिए आंकड़ों को तो सरकार के लोग और बुद्धिजीवी सेक्यूलर झूठ का पुलिंदा करार दे देते हैं। मेरे ही एक आलेख पर दिल्ली के एक पत्रकार अंगुली उठाते हुए कहते हैं कि पाकिस्तान में ऐसा नहीं होता आपकी जानकारी गलत है। पता नहीं किस ने आपको यह जानकारी मुहैया कराई है। वहां हिन्दू लड़कियों के साथ बलात्कार, जबरन धर्मांतरण, टेरर टैक्स जैसी कोई बात नहीं। उन महाशय और उनके जैसे तमाम सेक्यूलरों को जवाब देने के लिए दिल्ली के मजनूं टीला में डेरा डाले 151 पाकिस्तानी हिन्दू मौजूद हैं।
इंडिया टुडे की रपट कहती है कि पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों का अपहरण आम बात है : हिन्दी की प्रतिष्ठित समाचार पत्रिका इंडिया टुडे ने अपने 1 जून, 2011 के अंक में बताया है कि पाकिस्तान में हिन्दुओं का जीना मुहाल है। उनका हर दिन खौफ के साए में गुजरता है। मुसलमानों के लिए बने प्याऊ से हिन्दू पानी भी नहीं पी सकता। अपने परिजनों का अंतिम संस्कार करने तक की आजादी उन्हें नहीं है। उन्हें मजबूरी में इस्लाम की शिक्षा ग्रहण करनी पड़ती है क्योंकि वहां के सभी स्कूलों का इस्लामीकरण कर दिया गया है। हाल ही में अमरीका की एक सरकारी संस्था की रिसर्च बताती है कि पाकिस्तान के स्कूलों में भारत और हिन्दुओं के खिलाफ घृणा का पाठ पढ़ाया जाता है। इंडिया टुडे की रपट बताती है कि कराची की एक फैक्टरी में हिन्दू कर्मचारी जगदीश कुमार की हत्या फैक्टरी के ही मुसलिम साथियों ने कर दी। उस पर इस्लाम की निंदा करने का आरोप लगा दिया गया। पेशावर के जगदीश भट्टी इंडिया टुडे को बताते हैं कि नौकरी पाने के लिए उनके बेटे को मुसलिम नाम रखना पड़ा। पुलिस अधिकारियों ने नाम गुप्त रखने की शर्त पर इंडिया टुडे को बताया कि कई हिन्दुओं से सुरक्षा के नाम पर हर माह वसूली की जाती है। पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग की परिषद के सदस्य और सामाजिक कार्यकर्ता अमरनाथ मोटूमल इंडिया टुडे को बताते हैं कि अकेले कराची में ही हिन्दू लड़कियों का अपहरण आम बात है। आगे पत्रिका में लिखा है कि नगरपारकर इलाके की 17 साल की एक लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया जबकि आकली गांव की 15 साल की लड़की का अपहरण कर जबरन उसका धर्म परिवर्तन किया गया।
तहलका की विशेष खबर बताती है पाकिस्तान में हिन्दू होना गुनाह : स्वतंत्र, निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए प्रसिद्ध पत्रिका तहलका ने 31 दिसंबर 2011 के अपने अंक में पाकिस्तान से आए 151 हिन्दुओं के मुख से पाकिस्तान में हिन्दुओं के हालात का जिक्र किया है। तहलका के संवाददाता को इन हिन्दुओं में से 22 वर्षीय दयाराम बताते हैं कि वहां हिन्दुओं का धर्म नहीं है। हम लोगों को डराया धमकाया जाता है। धर्म बदलने को कहा जाता है। स्कूलों में सिर्फ इस्लाम की शिक्षा देते हैं। परेशानियां सह कर अगर हिन्दू पढ़ भी ले तो उसे नौकरी नहीं मिल पाती। एक नौजवान बताता है कि हम स्कूल में जवान लड़कियों को पढऩे नहीं भेजते थे क्योंकि वहां लोग हिन्दू लड़कियों को अगवा कर धर्म परिवर्तन करा कर निकाह करा लेते हैं। जैसे आपके यहां लड़कियां आराम से अकेले दिल्ली से मुंबई चली जाती हैं, वैसे हमारे यहां इतनी दूर अकेले नहीं जा सकतीं। 35 वर्षीय आशा देवी कहती है कि यहां हमने पहली बार दिवाली इतनी खुशी से मनाई। वहां तो पता ही नहीं चलता कि त्योहार है। मनाते भी थे तो अपने घर के अंदर एक कोने में एक-दो दिए जला कर। होली भी बाहर नहीं खेल सकते थे। सबसे अधिक दु:ख वाली बात है कि वहां अंतिम संस्कार भी आप अपने ढंग से नहीं कर सकते। इस बारे में सुनील ने तहलका को बताया कि वहां हिन्दुओं को मरने के बाद जलाने भी नहीं दिया जाता है। शव जलाने के वक्त लोग पुलिस लेकर आ जाते हैं कि जलाओ मत, हमें बदबू आती है। दो-तीन दिन तक लाश ऐसे ही पड़ी रहती है। फिर कुछ लोग दबाव में आकर दफना देते हैं।
      बहरहाल, इन सब बातों को जानने के बाद भी सरकार इन हिन्दुओं को पाकिस्तान भेजती है तो लानत है ऐसी सरकार पर। केन्द्र सरकार को चाहिए कि पाकिस्तान से आए इन हिन्दुओं बयानों को आधार बनाकर अंतरराष्ट्रीय पटल पर मजबूती के साथ पाकिस्तान में रह रहे अन्य हिन्दुओं की हितों की रक्षा के लिए पाकिस्तान की सरकार पर दबाव बनाए। साथ पाकिस्तान में मानवाधिकारों की क्या स्थिति है इस बारे में दुनिया को बताया जाए।

7 टिप्‍पणियां:

  1. Paakistaan, Bangladesh, Malaaysia Hi Nahi Bharat Aur Aur Nepal Me Bhi Bhi Hindus Ki Haalat Kharaab Hai. Doosre Daeze Ke Naagrik Ban Gaye Hain.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सेकुलर बनने की चाह में भारत के नेता इंसानियत भी भूल गए :(

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुर्भाग्य है ये देश का भारत भूमि का जहां सभी को पनाह मिलती है पर अपनों को नहीं मिलती ... शर्म आती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक आलेख ,मैं तो कहूंगा कि उनका ही नहीं सारे ही हिन्दुओं का हिन्दू होना दुर्भाग्यपूर्ण होता जा रहा है, शने: शने ! और जिसके लिए हमारा लालची और स्वार्थी होना प्रमुख कारण है ! अभी यूपी में देख लीजिये मुस्लिम वोट के लिए क्या मारामारी मची है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच्चाई व्यक्त करते शानदार आलेख

    उत्तर देंहटाएं
  6. "अतिथि देवो भव:" और शरणागत रक्षा की परम्परा वाले देश भारत को अपने पड़ोसी देशों तिब्बत, पाकिस्तान आदि की तानाशाही सरकारों द्वारा सताये गये शरणार्थियों के मानवाधिकार को ध्यान में रखते हुए स्पष्ट नीतियाँ बनानी चाहिये और पीड़्तों की रक्षा के लिये आगे आना चाहिये। जनता और विभिन्न संस्थाओं को भी इस विषय में अपनी ओर से अधिकाधिक करने का प्रयास करना चाहिये। इस आलेख के लिये आभार!

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails