सोमवार, 11 अप्रैल 2011

लकड़ी की टाल से लक्कड़खाना

लक्कड़खाना स्थित नकलेराम शाक्य का मकान.
लक्कड़खाना, लश्कर का बहुत पुराना स्थान है। रियासत काल में यह लकड़ी की बिक्री का प्रमुख केन्द्र हुआ करता था। इसी कारण इसका नाम लक्कड़खाना पड़ा। उस समय शरीरिक रूप से अक्षम और असहाय लोगों को यहां खाना बांटा जाता था। खाना बनाने के लिए लकड़ी की सप्लाई भी लक्कड़खाने से ही होती थी। लक्कड़खाना पुल पर नकलेराम शाक्य का पुराना भवन है। यह स्थापत्य और विरासत की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। भवन पर बेजोड़ शिल्पकला देखने को मिलती है। कहा जाता है कि इन्हीं नकलेराम शाक्य ने लक्कड़खाना बस्ती बसाई थी।

4 टिप्‍पणियां:

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails