मंगलवार, 8 मार्च 2011

नरसिंहगढ़ का फुन्सुक वांगडू 'हर्ष गुप्ता'

हर्ष गुप्ता
 खू बसूरत और व्यवस्थित खेती का उदाहरण है नरसिंहगढ़ के हर्ष गुप्ता का फार्म। वह खेती के लिए अत्याधुनिक, लेकिन कम लागत की तकनीक का उपयोग करता है। जैविक खाद इस्तेमाल करता है। इसे तैयार करने की व्यवस्था उसने अपने फार्म पर ही कर रखी है। किस पौधे को किस मौसम में लगाना है। पौधों के बीच कितना अंतर होना चाहिए। किस पेड़ से कम समय में अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है। किस पौधे को कितना और किस पद्धति से पानी देना है। इस तरह की हर छोटी-बड़ी, लेकिन महत्वपूर्ण जानकारी उसके दिमाग में है। जब वह पौधों के पास खड़ा होकर सारी जानकारी देता है तो लगता है कि उसने जरूर एग्रीकल्चर में पढ़ाई की होगी, लेकिन नहीं। हर्ष गुप्ता इंदौर के एक प्राइवेट कॉलेज से फस्र्ट क्लास टैक्सटाइल इंजीनियर है। उसने इंजीनियरिंग जरूर की थी, लेकिन रुझान बिल्कुल भी न था।
        सन् २००४ में वह पढ़ाई खत्म करके घर वापस आया। उसने फावड़ा-तसल्ल उठाए और पहुंच गया अपने खेतों पर। यह देख स्थानीय लोग उसका उपहास उड़ाने लगे। लो भैया अब इंजीनियर भी खेती करेंगे। नौकरी नहीं मिल रही इसलिए बैल हाकेंगे। वहीं इससे बेफिक्र हर्ष ने अपने खेतों को व्यवस्थित करना शुरू कर दिया। इसमें उसके पिता का भरपूर सहयोग मिला। पिता के सहयोग ने हर्ष के उत्साह को सातवें आसमान पर पहुंचा दिया। बेटे की लगन देख पिता का जोश भी जागा। खेतीबाड़ी से संबंधित जरूरी ज्ञान इंटरनेट, पुराने किसानों और कृषि वैज्ञानिकों के सहयोग से जुटाया। नतीजा थोड़ी-बहुत मुश्किलों के बाद सफलता के रूप में सामने आया। उसके फार्म पर आंवला, आम, करौंदा, शहतूत, गुलाब सहित शीशम, सागौन, बांस और भी विभिन्न किस्म के पेड़-पौधे २१ बीघा जमीन पर लगे हैं। हर्ष की कड़ी मेहनत ने उन सबके सुर बदल दिए जो कभी उसका उपहास उड़ाते थे। उसके फार्म को जिले में जैव विविधता संवर्धन के लिए पुरस्कार भी मिल चुका है। इतना ही नहीं कृषि पर शोध और अध्ययन कर रहे विद्यार्थियों को फार्म से सीखने के लिए संबंधित संस्थान भेजते हैं।
        हर्ष का कहना है कि मेहनत तो सभी किसान करते हैं, लेकिन कई छोटी-छोटी बातों का ध्यान न रखने से उनकी मेहनत बेकार चली जाती है। मेहनत व्यवस्थित और सही दिशा में हो तो सफलता सौ फीसदी तय है। मैं इंजीनियर की अपेक्षा किसान कहलाने में अधिक गर्व महसूस करता हूं। हर्ष कहते हैं कि खेती के जिस मॉडल को मैं समाज के सामने रखना चाहता हूं उस तक पहुंचने में कुछ वक्त लगेगा.......
    हर्ष गुप्ता और उसके फार्म के बारे में बात करने का मेरा उद्देश्य सिर्फ इतना सा ही है कि कामयाबी के लिए जरूरी नहीं कि अच्छी पढ़ाई कर बड़ी कंपनी में मोटी तनख्वा पर काम करना है। लगन हो तो कामयाबी तो साला झक मारके आपके पीछे आएगी। यह कर दिखाया छोटे-से कस्बे नरसिंहगढ़ के फुन्सुक वांगडू 'हर्ष गुप्ता' ने।

15 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेरक व्यक्तित्व.. बहुत अच्छा लगता है ऐसे लोगों के बारे में जानकर! आज ब्लॉग जगत में भी कई इंजीनियर इतनी अच्छी अच्छी कविताएँ लिख रहे हैं कि लगता नहीं कि साहित्य के विद्यार्थी न हों!
    हर्ष जी साधुवाद के पात्र हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर्ष गुप्ता जैसे लोग यदि उदाहरण बनें तो भारत पुनः एक कृषि प्रधान देश हो सकता है.. दरसल खेती को कोई भी सीरियसली लेता ही नहीं, ख़ासकर शहरी और आधुनिक पढाई पढने वाले लोग!!
    एक अनोखी शख़्सियत से परिचय करवाने का आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्रेरणादायक पोस्ट! देश को ऐसे नौजवानों की बडी आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे लोग ही समाज को दिशा प्रदान करते हैं !
    प्रेरणादायक पोस्ट के लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. post prerna dayak hay...
    Aise logon ko jaan kar andar se umda aur imandaari ke sath kaam karne ka zazba jaag jata hay...kuchh log kisi khas kaam karne ke liye paida hote hayn ..unhe jaan kar behad khushi hoti hay..

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिक्षा से कृषि को भी उन्नत बनाय जा सकता है प्रेरक प्रसंग !

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर्ष गुप्ता जैसे लोग तो उदाहरण होते हैं...
    ऐसे युवाओ की ही आज जरूरत है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी देने के लिए! दरअसल मैं ज़रूरी काम में व्यस्त थी इसलिए पिछले कुछ महीनों से ब्लॉग पर नियमित रूप से नहीं आ सकी!
    बहुत ही सुन्दर और प्रेरणादायक पोस्ट! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिलकुल...! हर्ष गुप्ता पर ये उपयोगी रिपोर्ट पेश कर लोकेन्द्र आपने एक उत्तम कार्य किया है.
    --

    उत्तर देंहटाएं
  10. लोकेन्द्र, आज के दौर में ऐसे पोस्टों की बहुत आवश्यकता है विशेष कर नौजवानों को.
    मैं चाहूँगा आप भी नियमित कुछ करते रहें.
    मैंने युवाओं के लिए एक प्रोजेक्ट शुरू किया है, चाहे तो आप भी शामिल हो सकते हैं.
    मेरे मंजिल कठिन हैं और संसाधन सीमित पर मुझे भरोसा है मैं जरुर अपने देश में अपने प्रोजेक्ट को पूरा करूँगा.

    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुलभ जी बिलकुल जुड़ना चाहेंगे..... बताईये क्या करना है... मेरा मोबाइल ९८९३०७२९३० पर आप मुझसे बात कर सकते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छा लगता है ऐसे लोगों के बारे में जानकर ... हर्ष गुप्ता जैसे लोग तो उदाहरण होते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  13. कामयाबी के लिए जरूरी नहीं कि अच्छी पढ़ाई कर बड़ी कंपनी में मोटी तनख्वा पर काम करना है। लगन हो तो कामयाबी तो साला झक मारके आपके पीछे आएगी।

    बिलकुल सही .....
    इसलिए बच्चों पर जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए ...
    उन्हें जिस चीज का शौक हो उस क्षेत्र में जाने देना चाहिए ....
    बहुत अच्छा उदाहरण ...
    बधाई 'हर्ष गुप्ता' जी को....

    उत्तर देंहटाएं
  14. हर्ष गुप्ता और उनके फार्म के बारे में प्रेरणादायक पोस्ट......
    सार्थक लेखन के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर्ष गुप्ता का उदाहरण अनुकरणीय और प्रोत्साहित करने वाला है ! सफलता के लिए लगन और मेहनत ज़रूरी है !
    ज़मीन से जुड़े ऐसे लोगों को आप अपने ब्लॉग पर लाकर बहुत अच्छा काम कर रहें हैं ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं

यदि लेख पसन्द आया है तो टिप्पणी अवश्य करें। टिप्पणी से आपके विचार दूसरों तक तो पहुँचते ही हैं, लेखक का उत्साह भी बढ़ता है…

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails